gopal agarwal

Just another weblog

102 Posts

2962 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 4631 postid : 1168048

दीर्घकालीन अलाभकारी फसल

Posted On 21 Apr, 2016 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

चीनी मिल लाभ का उद्यम है। यद्यपि चीनी के बढ़ते प्रयोग से स्वास्थ में होने वाली हानि के प्रति चिकित्सा क्षेत्र की सभी पद्धतियाँ सतर्क कर रही है। उधर चीनी मिलों की बढ़ती संख्या से गन्ने की मांग में भी वृद्धि हो रही है। प्रथम दृष्टय यह सम्पन्नता की कृषि उपज है परन्तु पानी की सोख अधिक लेने के कारण खेत की नमी व भूतल जल स्तर में गिरावट अपेक्षाकृत अधिक है। महाराष्ट्र में गन्ना व कपास अधिक है। गन्ने की खेती मात्र चार फीसद जमीन पर है परन्तु सिंचाई के पानी की खपट बीस गुनी है। कृषि वैज्ञानिकों को अनाज दलहन तथा तिलहन की फसलों से अधिक उपज की तकनीकीयों की ओर ध्यान देना चाहिए।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Paulina के द्वारा
May 7, 2016

En Provence, treoitidnnallement les panaïs et les cardes font partie du menu de Noël et se vendent couramment sur le marché.Bonne fin de Noël à tous. Avec que le petit jésus dans la crèche, entre le boeuf et l’âne.


topic of the week



latest from jagran