gopal agarwal

Just another weblog

102 Posts

2962 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 4631 postid : 21

क्यों डरते हो उठो और आगे बढ़ो

Posted On: 17 Aug, 2011 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

“यूं तो है बहुत छोटी छोटी बातें परन्तु बदन में शूल चुभने की तरह गहरी पीड़ा देती हैं। थाने में मोबाईल या कागजात चोरी की सूचना पर ठप्पा लगवाने के सौ रूपये, एफ०आई०आर० दर्ज कराने के दो सौ रूपये, कार चोरी की रिपोर्ट पांच सौ रूपये व फाइनल रिपोर्ट लगाने को क्लेम मूल्य के अनुसार धन देना अनिवार्य हो गया है। अब उच्च अधिकारियों एवं राजनीतिक व्यवस्था को सोचना है कि संरक्षण व्यवस्था की सड़न से चिपके इन लुटेरों को देना है या फिर जनता को जिसकी सेवा की शपथ लेकर अधिकारी को वर्दी व नेता को विधायिका मिली है।
अधिकारी तैनाती पर आते है और चले जाते है, कुछ दिनों में, कुछ महीनों में अथवा एक दो साल में परन्तु ऐसा क्या होता है कि जहाँ एक बार तैनाती हुई वहां व्यापार में स्थाई भागीदारी हो जाती है। कुछ अपवाद रहे होंगे। मीडिया के सामने अपने को दबंग सिद्ध करने वाला अधिकारी सत्ता पक्ष के दलालों व गुंडों के आगे मिमयाता है, तभी तो अपराधी वेखौफ हैं।
कहीं लूट या चोरी हो जाती तो विवचेना अधिकारी लुटे हुए व्यक्ति से ही अपराधियों के ठिकाने ढूंढने के लिए कहता, दबिश के लिए उन्हीं से वाहन मंगाता और रास्ते में बराती की तरह खाता-पीता चलता है।
जनता करबट बदल रही है, धरती हिल रही है। जब जनता आगे बढेगी तो सिंहसान तिनकों की तरह आंधी में उड़ेगा। इसीलिए, हे उच्च अधिकारियों, कल दूसरी सरकार होगी तुम्हे अपनी आस्था बदलनी पड़ेगी। इसीलिए, हमारा आग्रह है कि बार-बार आस्था बदलने से अच्छा है जनता के प्रति अपने उत्तरादायित्व को निभायें। “जन” स्थाई है और वही राष्ट्र का वास्तविक स्वामी है।
गोपाल अग्रवाल

| NEXT

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

185 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran